जाने- डर को कंट्रोल करने का उपाय






नमस्कार दोस्तों आज आप पढ़ेंगे एक और नया लेख जिसका शीर्षक  " डर " है! डर के बारे में सब को पता है ,  मनुष्य एवं अन्य प्राणियों में यह प्रत्यक्ष रूप से उनके  जीवन में निहित होता है!  क्यूंकि यह स्वाभाविक होता है इसको हम महसूस भी करते है और कभी कभी इसको नहीं भी करते है! कई बार हम इसको महसूस नहीं कर पाते है क्यूंकि यह एक प्रकार से नकारात्मक भावना होती  है , नकारात्मक भावना मतलब ऐसी सोच जो संसार में वषों पहले से व्यप्त है इसे देखा जा सकता है , समझा जा सकता है तथा इसको महसूस किया जा सकता है जिसे पारिवारिक डर , जीवन सम्बंधित डर , भूत प्रेत आदि कितने ही रूप में जाना जाता  है          दोस्तों हम चाहे तो बढ़े से बढ़ा डर क्यों न हो हम उन पर आराम से जीत हांसिल कर सकते है बस उसके लिए चाहिए की हमें अपने आप भर भरोषा होना चाहिए स्वयं पर विश्वास होना चाहिए है तो हम कोई से भी डर का सामना कर सकते है


जरूर पढ़े- जाने...भय के प्रकार ?

(1).....डर का डट के सामना करे- दोस्तों यदि आप किसी डर की वजह से परेशान हो तो दोस्तों करों न उस डर का  क्या जाता है ट्राई करने में इससे आप विफल होते हो तो आपको इससे कुछ सीखने को मिलेगा तो देर किस बात हो जाओ तैयार डर का सामना करने के लिए!





 (2)...आत्मविश्वास का होना- दोस्तों कोई भी कार्य में सफलता पाने के लिए आत्मविश्वास का होना बहुत जरूरी होता है तो आप अपना विश्वास बनाये रखो इसके बाद डर को तो तुम चुटकियों में निकल फेंकोगे! 

 (3)....ध्यान करे- दोस्तों ध्यान एक ऐसी चाबी है जिसके द्वारा हमारे शरीर का प्रत्येक ताला खोल सकते है मतलब इससे हम प्रतिदिन करेंगे तो डर दूर होता चला जायेगा! 





(4).....अपनी गलती को सुधारे- जी हाँ दोस्तों डर कब पैदा होता है जब हम कोई गलती करते है इसके बाद हमे डर महसूस होने लगता है तो अपनी गलती को सुधारने का प्रयास कर सकते है 

(5)......स्वस्थ का ध्यान रखे- दोस्तों आपको अपने डर पर काबू पाने के लिए अपने स्वस्थ पर ध्यान देना भी जरुरी है तभी तो आप डर का सामना कर पाओगे! 

(6).....कल्पना करने पर नियंत्रण रखे- दोस्तों आपको आपकी दिमाग में डर के बारे में अधिक नहीं सोचना चाहिए और न ही उसके बारे में कल्पना करना चाहिए क्यूंकि हम जितनी कल्पना करेंगे यह उतना ही हमारे लिए घातक सिद्ध होगा इसलिए इस पर कंट्रोल रखे! 





(7)......गलतियों से सीखना चाहिए- दोस्तों आप जो गलतियां करते हो उनको द्वार न होने के प्रयास






          

0 Comments: