Friday, 14 December 2018

भाजपा हारा तो हारा.... उस बात का इतना अफसोस भी नही है ।


भाजपा हारा तो हारा.... उस बात का इतना अफसोस भी नही है ।

लेकिन........
राम को काल्पनिक कहने वाले जीत गए उस बात का अफसोस है........
संघ की शाखाओं को बंद करने का वादा करने वाले जीत गए उस बात का अफसोस है........
चुनाव खत्म होने पर संघ वाले हिन्दुओ को देख लेंगे ऐसा कहने वाले जीत गए उस बात का अफसोस है........
जिनकी रैलियों में पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगे वे जीत गए उस बात का अफसोस है........
राम मंदिर में बाधा उत्पन्न करने वाले जीत गए उस बात का अफसोस है........
इसरत जहां को अपनी बेटी बताने वाले जीत गए उस बात का अफसोस है........
जिसकी सरकार में अवैध बांग्लादेशी सब से ज्यादा घुसे और रोहिंग्याओ के लिए लाल जाजम बिछाने वाले जीत गए उस बात का अफसोस है........
याकूब मेमन की फांसी रुकवाने वाले गांधी के प्रपौत्र को अपना उपराष्ट्रपति का उमीदवार घोषित करने वाले जीत गए उस बात का अफसोस है........
हामिद अंसारी जैसे देशद्रोही को 10 साल उपराष्ट्रपति बनाने वाले जीत गए उस बात का अफसोस है........
लाखो करोड़ के भ्रष्टाचार करने वाले जीत गए उस बात का अफसोस है........
बीच बाज़ार गाय को काटकर खाने वाले जीत गए उस बात का अफसोस है........
देश मे सब जाती के लोग बड़े प्यार से रहते थे, उनलोगों में ज़हर घोलने वाले जीत गए उस बात का अफसोस है........
5 सालमे संसद में सिर्फ फालतू हंगामा खड़ा करके देश की गरीब जनता के टेक्स के करोड़ो रुपए बर्बाद करने वाले जीत गए उस बात का अफसोस है........
आतंकियों की मौत पर आंसू बहाने वाले जीत गए उस बात का अफसोस है........
सेना के जवानों का दर्द न समझने वाले और उनके शौर्य पर संदेह करने वाले जीत गए उस बात का अफसोस है........
देश के भोले किसानों से झूठे वादे करने वाले जीत गए उस बात का अफसोस है.............
-----------------------------------------
इतीहास में पढ़ने में आता था कि मुट्ठीभर अंग्रेज और कुछ मुग़ल करोड़ो भारतीयों पर कई साल राज कर गए...... लेकिन कैसे वह बात अब समझ मे आ गई ।।
खेर....! सब चलता रहता है......हज़ारो सालो से चल रहा है और वक़्त के साथ रीत बदलती है लेकिन जो लोग यह बात नही जानते उनकी किस्मत में गुलामी लिखी ही होनी चाहिए ।।
वंदे मातरम.....। भारत माता की जय ।।

0 Comments: